ढेला के बच्चो ने जाना चिड़ियो का संसार

रामनगर। राजकीय इंटर कालेज ढेला के 40 से अधिक बच्चों ने आज कार्बेट पार्क क्षेत्र के पक्षियों के बारे में जाना और उनको देखा भी। वरिष्ठ पक्षीविद बच्ची सिंह बिष्ट एवम राजेश भट्ट ने बच्चों को बताया कि कार्बेट क्षेत्र में पक्षियों की लगभग 600 प्रजातियां पायी जाती हैं, जिसमें 350 के आसपास स्थानीय हैं। जबकि 250 पक्षी प्रवासी पक्षी हैं, जो विशेष रूप से जाड़ों के मौसम में हजारों किलोमीटर की यात्रा कर यहां पहुंचते हैं और गर्मी की शुरुआत होते ही अपने गृह क्षेत्रों को चले जाते हैं। उन्होंने बताया कि प्रवासी पक्षियों में साइबेरियन पक्षी, एशियन पैराडाइज, स्केरलेट मिनिवेट्ट, स्विफ्ट हैं। इसमें स्विफ्ट मिस्र से आती है जिसको लक बर्ड स्थानीय भाषा में गंोताईं कहते हैं। यह स्थानीय परिवेश के इतने अनुकूल हो चुकी है कि यह अब स्थायी रूप से यहीं रहने लगी है। उनके द्वारा स्थानीय स्थायी पक्षियों की विशेषताओं के अलावा उनकी आवाज निकल कर बच्चों को सिखाई गयी। बच्चों को जंगल भ्रमण के दौरान विभिन्न पक्षी भी दिखाए गए। ढेला के रेंजर श्री संदीप गिरी ने जानकारी दी कि कार्बेट क्षेत्र की पारिस्थितिकीय में सुधार होने के चलते समाप्तप्राय माने जा चुके गिद्ध फिर से दिखाई देने लगे हैं। वर्तमान में ढेला रेंज में ही डेढ़ सौ से अधिक गिद्ध हो गए हैं। इस दौरान नेचर गाइड अनिल चैधरी, नवेन्दु मठपाल, वन बीट अधिकारी आशुतोष सती, सुरेंद्र सिंह बोरा, कुणाल रावत, निकिता सत्यवली, ज्योति फर्त्याल, जतिन ललित, उमा रावत, अमन बिष्ट मौजूद रहे।

x

Check Also

डम्पर ने स्कूटी को मारी टक्कर,रिटायर फौजी की मौत

रामनगर। पूत्रवधू के साथ मन्दिर से घर वापस लौट रहे स्कूटी सवार पूर्व फौजी को डम्पर ने जोरदार टक्कर मार ...